NBFC(Non banking finance Company) details in hindi. | एनबीएफसी कंपनी क्या हैं?

Share

NBFC (Non banking finance company) details  in hindi (नॉन बैंकिंग फाइनेंस कंपनी क्या होती हैं?):  NBFC का मतलब होता है गैरबैंकिंग वित्तीय निगम (Non-Banking Financial Company). आरबीआई अधिनियम की धारा 451(c) के अनुसार, एक गैरबैंकिंग कंपनी जो एक वित्तीय संस्थान का व्यवसाय करती है, एक गैरबैंकिंग वित्तीय निगम या NBFC कहलाती है

NBFC review in hindi.

NBFC(नॉन बैंकिंग फाइनेंस कंपनी) कंपनी क्या होती हैं?

 

एक गैरबैंकिंग वित्तीय कंपनी (NBFC) कंपनी अधिनियम, 1956 के तहत पंजीकृत एक कंपनी है जो उधार व्यवसाय (lending business), किरायाखरीद (hire-purchase), पट्टे (leasing), बीमा व्यवसाय (insurance business), कुछ मामलों में जमा प्राप्त करने, चिट फंड, स्टॉक और शेयरों के अधिग्रहण आदि में लगी हुई है

NBFC के कार्यों का प्रबंधन कॉरपोरेट मामलों के मंत्रालय (Ministry of Corporate Affairs) और भारतीय रिजर्व बैंक दोनों द्वारा किया जाता है

 

आरबीआई के साथ पंजीकृत NBFCs(नॉन बैंकिंग फाइनेंस कंपनी)के विभिन्न प्रकार/श्रेणियां क्या हैं?

 

NBFCs को निम्नलिखित में वर्गीकृत किया गया है:

 

a) जमाराशि स्वीकार करने वाली और जमा करने वाली NBFCs में देन दारियों के प्रकार के संदर्भ में

b) गैर जमा स्वीकार करने वाली NBFC अपने आकार के अनुसार व्यवस्थित रूप से महत्वपूर्ण और अन्य जमा करने वाली होल्डिंग कंपनियों (NBFC-NDSI और NBFC-ND) में

c) वे किस तरह की गतिविधि करते हैं?

 

इस व्यापक वर्गीकरण के अंतर्गत विभिन्न प्रकार की NBFCs इस प्रकार हैं:

 

1. Asset Finance Company (AFC)  : AFC एक ऐसी कंपनी है जो अपने प्रमुख व्यवसाय के रूप में ऑटोमोबाइल, ट्रैक्टर, lathe machines, जनरेटर सेट, और सामग्री हैंडलिंग उपकरण (material handling equipments), अपनी शक्ति और सामान्य प्रयोजन औद्योगिक मशीनों जैसी उत्पादक/आर्थिक गतिविधियों का समर्थन करने वाली भौतिक संपत्तियों का वित्त पोषण करती है

इस उद्देश्य के लिए प्रधान व्यवसाय कोआर्थिक गतिविधि का समर्थन करने वाली वास्तविक/भौतिक संपत्तियों के वित्तपोषण के कुल के रूप में परिभाषित किया गया है और इससे होने वाली आय क्रमशः कुल संपत्ति और कुल आयका 60% से कम नहीं है

 

2.  Investment Company (IC): IC का अर्थ है कोई भी कंपनी जो एक वित्तीय संस्थान है जो अपने प्रमुख व्यवसाय के रूप में प्रति भूतियों का अधिग्रहण करती है

 

3. Loan Company (LC): LC का अर्थ किसी भी कंपनी से है जो एक वित्तीय संस्थान है जो अपने प्रमुख व्यवसाय के रूप में वित्त प्रदान करता है चाहे वह ऋण या अग्रिम या अन्यथा किसी अन्य गतिविधि के लिए हो, लेकिन इसमें एक संपत्ति वित्त कंपनी(Asset Finance Company) शामिल नहीं है

See also  Zerodha review in hindi 2022.Zerodha kya hai (ज़ीरोधा में निवेश करना सही हैं क्या?)

 

4. Infrastructure Finance Company (IFC): IFC एक गैरबैंकिंग वित्त कंपनी है:

A) जो अपनी कुल संपत्ति का कम से कम 75 प्रतिशत बुनियादी ढांचा ऋणों में लगाता है

B) जिसकी न्यूनतम निवल स्वामित्व निधि ₹300 करोड़ है

C) जिसकी न्यूनतम credit rating ‘A’ या समानहै

D) और 15% का CRAR है

 

5. Systemically Important Core Investment Company (CIC-ND-SI): CIC-ND-SI एक NBFC है जो शेयरों और प्रतिभूतियों के अधिग्रहण का कारोबार करती है और जो निम्नलिखित शर्तों को पूरा करती है: –

A) समूह की कंपनियों में इक्विटी शेयरों, वरीयता शेयरों, ऋण या ऋण में निवेश के रूप में इसकी कुल संपत्ति का 90% से कम नहीं है

B) समूह कंपनियों में इक्विटी शेयरों में इसका निवेश (इश्यू की तारीख से 10 साल से अधिक की अवधि के भीतर अनिवार्य रूपसे इक्विटी शेयरों में परिवर्तनीय सहित) इसकी कुल संपत्ति का 60% से कम नहीं है

C) यह कमजोर पड़ने या निवेश के उद्देश्य से ब्लॉक बिक्री के अलावा समूह कंपनियों में शेयरों, ऋण या ऋण में अपने निवेश में व्यापार नहीं करता है। 

D) यह आरबीआई अधिनियम, 1934 की धारा 45i(c) और45i(f) में संदर्भित किसी भी अन्य वित्तीय गतिविधि को नहीं करता है, सिवाय बैंक जमा, मुद्रा बाजार के साधनों, सरकारी प्रतिभूतियों, ऋण और ऋण में निवेश को छोड़कर समूह कीकंपनियों को जारी करना या समूह कंपनियों की ओर से guarantees जारी करना

E) इसकी संपत्ति का आकार ₹ 100 करोड़ या उससे अधिक है

F) यह सार्वजनिक धन स्वीकार करता है

6. Infrastructure Debt Fund – Non- Banking Financial Company (IDF-NBFC):

IDF-NBFC एक कंपनी है जो NBFC के रूप में पंजीकृत है ताकि बुनियादी ढांचा परियोजनाओं में दीर्घकालिक ऋण के प्रवाह को सुगम बनाया जा सके

IDF-NBFC न्यूनतम 5 वर्ष की परिपक्वता अवधि के रुपये या डॉलर मूल्यवर्ग के बांड जारी करके संसाधन जुटाते हैं केवल इंफ्रास्ट्रक्चर फाइनेंस कंपनियां(आईएफसी) IDF-NBFCs को प्रायोजित कर सकती हैं

7. Non-Banking Financial Company – Micro Finance Institution (NBFC-MFI): NBFC-MFI एकगैरजमा स्वीकार करने वाली एनबीएफसी है जिसकी कम से कम 85% संपत्ति अर्हक संपत्ति के रूप में है जो निम्नलिखित मानदंडों को पूरा करती है:

1. NBFC-MFI द्वारा एक ग्रामीण परिवार की वार्षिक आय ₹ 1,00,000 से अधिक या शहरी और अर्धशहरी घरेलू आय ₹ 1,60,000 से अधिक नहीं वाले उधारकर्ता को वितरित ऋण

2. ऋण राशि पहले चक्र में ₹ 50,000 और बाद के चक्रों में ₹ 1,00,000 से अधिक नहीं है

3. उधारकर्ता की कुल ऋणग्रस्तता ₹ 1,00,000 से अधिक नहीं है

4. बिना जुर्माने के पूर्व भुगतान के साथ ₹ 15,000 से अधिक की ऋण राशि के लिए ऋण की अवधि 24 महीने से कम नहीं होनी चाहिए

5. बिना संपार्श्विक (collateral) के दिया जाने वाला ऋण

6. आय सृजन के लिए दिए गए ऋण की कुल राशि, MFIs द्वारा दिए गए कुल ऋण के 50 प्रतिशत से कम नहीं है

See also  5 Paisa demat account features, benefits and charges in hindi.

7. ऋण लेने वाले की पसंद पर साप्ताहिक, पाक्षिक या मासिक किश्तों पर ऋण चुकाया जा सकता है

8. Non-Banking Financial Company – Factors (NBFC-Factors): NBFC-Factor factoring के प्रमुख व्यवसाय में लगी गैरजमा लेने वाली NBFC है फैक्टरिंग व्यवसाय में वित्तीय परिसंपत्तियां (financial assets) इसकी कुलसंपत्ति का कम से कम 50 प्रतिशत होनी चाहिए और फैक्टरिंग व्यवसाय से प्राप्त आय इसकी सकल आय के 50 प्रतिशत से कम नहीं होनी चाहिए

9. बंधक गारंटी कंपनियां (एमजीसी) Mortgage Guarantee Companies (MGC) MGC वित्तीय संस्थान हैं जिनके लिए व्यापार कारोबार का कम से कम 90% बंधक गारंटी व्यवसाय है या सकल आय का कम से कम 90% बंधक गारंटी व्यवसाय से है और शुद्ध स्वामित्व वाली निधि (net owned fund) ₹ 100 करोड़है

10. NBFC- Non-Operative Financial Holding Company (NOFHC) : वित्तीय संस्थान है जिसके माध्यम से प्रमोटर / प्रमोटर समूहों को एक नया बैंक स्थापित करने की अनुमति दी जाती है यह एक पूर्ण स्वामित्व वाली गैरऑपरेटिव फाइनेंशियल होल्डिंग कंपनी (NOFHC) है, जो बैंक के साथसाथ आरबीआई या अन्य वित्तीय क्षेत्र के नियामो  द्वारा विनियमित अन्य सभी वित्तीय सेवा कंपनियों को होल्ड कर के रखती है

 

NBFC License प्राप्त करने के लिए पूरी की जाने वाली आवश्यकताएं:

 

एनबीएफसी लाइसेंस के लिए आवेदन करने के लिए जिन मूलभूत आवश्यकताओं को पूरा किया जाना है, वे इस प्रकार हैं:

  • कंपनी को कंपनी अधिनियम के तहत पंजीकृत होना चाहिएयानी कंपनी या तो लिमिटेड कंपनी या प्राइवेट लिमिटेड कंपनी(पीएलसी) होनी चाहिए
  • कंपनी का न्यूनतम शुद्ध स्वामित्व वाला फंड 2 करोड़ रुपये होना चाहिए।

 

NBFC को शामिल करने के लिए प्रस्तुत किए जाने वाले दस्तावेज– 

 

एनबीएफसी लाइसेंस आवेदन करने और प्राप्त करने के लिए निम्नलिखित दस्तावेज जमा करने होंगे:

 

1. कंपनी के प्रबंधन के बारे में विवरण

2. निगमन प्रमाणपत्र की प्रमाणित प्रति

3. व्यवसाय प्रारंभ करने के प्रमाणपत्र की प्रमाणित प्रति

4. संगठन के अपडेटेड Memorandum of Association (MoA) की प्रमाणित प्रति

5. संगठन के अपडेटेड Articles of Association (AoA) कीप्रमाणित प्रति

6. संगठन को जारी किए गए पैन या CIN की प्रति

7. निदेशकों का प्रोफाइल जिसे प्रत्येक निदेशक द्वारा अलग से विधिवत भरा और हस्ताक्षरित किया जाता है

8. गैरबैंकिंग वित्तीय कंपनियों से अनुभव का प्रमाण पत्र जिसमेंप्रत्येक निदेशक ने काम किया था और अनुभव प्राप्त किया था

9. कंपनी के निदेशकों पर लागू सिबिल डेटा

10. संबंधित अनिगमित निकायों के पिछले 2 वर्षों के वित्तीय विवरण, यदि कोई हों

11. आवेदन की सामग्री और इसकी जमा करने की प्रक्रिया, औरअधिकृत हस्ताक्षर कर्ता को मंजूरी देने के लिए एक बोर्ड संकल्प

12. यह घोषणा करने के लिए एक बोर्ड संकल्प कि

) संगठन द्वारा पहले कोई सार्वजनिक जमा स्वीकार नहीं किया गया है (समय अवधि का उल्लेख करें)

See also  Sip क्या हैं। sip में निवेश कैसे करे।

बी) आज तक संगठन द्वारा कोई सार्वजनिक जमा नहीं रखा गया है और उसके बाद भारतीय रिजर्व बैंक की लिखित पूर्व अनुमति केबिना कोई जमा स्वीकार नहीं किया जाएगा

13. एक बोर्ड संकल्प जो निर्दिष्ट करता है कि

A) संगठन द्वारा कोई NBFC गतिविधियां नहीं की जा रही हैं

B) संगठन ने सभी प्रकार के NBFC संचालन बंद कर दिए हैं और भारतीय रिजर्व बैंक से पंजीकरण प्राप्त किए बिना ऐसा नहीं करेंगे

14. ‘निष्पक्ष व्यवहार संहिता( ‘Fair Practices Code’) तैयार करने के लिए बोर्ड के संकल्प की प्रमाणित प्रति आवश्यक है

15. प्रमाणित करने वाला एक सांविधिक लेखा परीक्षकप्रमाणपत्र

A) कि संगठन के पास कोई सार्वजनिक जमा नहीं है

B) कि संगठन के पास कोई सार्वजनिक जमा नहीं है

16. एक सांविधिक लेखा परीक्षक प्रमाणपत्र जो प्रमाणित करता है कि संगठन किसी भी एनबीएफसी संचालन में शामिल नहीं है

17. एक सांविधिक लेखा परीक्षक प्रमाणपत्र जो आवेदन की तारीख के अनुसार निवल स्वामित्व वाली निधि को प्रमाणित करता है

18. अधिकृत शेयर पूंजी विवरण

19. कंपनी की शेयरधारिता के हाल के पैटर्न के साथसाथ उसके प्रतिशत का विवरण

20. सावधि जमा रसीद की प्रतियां और निवल स्वामित्व वाली निधियों का समर्थन करने वाले खाते की शेष राशि के साथ कोईऋण/ऋण होने का बैंकर प्रमाणपत्र

21. कंपनी द्वारा ली गई शाखा या बैंक का पूरा डाक पता, क्रेडिट या ऋण सुविधाएं, बैंक खाता और शेष विवरण, इत्यादि

22. मौजूदा कंपनियों के लिए, पिछले 3 वर्षों के लाभ और हानि खाते, लेखा परीक्षित बैलेंस शीट, लेखा परीक्षकों और निदेशकों की रिपोर्ट आदि प्रस्तुत की जानी हैं

23. संगठन की अगले 3 वर्षों की व्यवसाय योजना जैसे विवरणके साथ:

A) व्यवसाय की विशिष्ट दिशा

B) बाजार खंड

C) सार्वजनिक जमा, नकदी प्रवाह विवरण, और अनुमानित बैलेंसशीट के बिना आय/परिसंपत्ति पैटर्न विवरण

24. कंपनी के स्टार्टअप पूंजी स्रोत के दस्तावेजी साक्ष्य

25. स्वसत्यापन के बाद प्रस्तुत किए जाने वाले आईटी रिटर्न याबैंक विवरण

 

इसके अलावा भी आपसे और कागज मांगे जा सकते है

 

निष्कर्ष:

 

तो NBFC कम्पनी के इस आर्टिकल मे इतना ही हमने ये जाना की आखिर NBFC कम्पनी क्या होती हैं?(NBFC details in hindi) NBFCs के प्रकार क्या क्या है? और NBFC License प्राप्त करने के लिए पूरी की जाने वाली आवश्यकताएं क्या है?

मुझे उम्मीद है की अब आपको NBFC in hindi से जुड़ी सारी की सारी जानकारी मिल गई होगी अगर फिर भी आपका कोई सवाल है तो आप कमेंट कर के मुझसे पूछ सकते है आपको ये आर्टिकल कैसा लगा आप बो भी इसे लाइक कर के हमे बता सकते है

 

अक्सर पूछे जाने बाले सवाल 

प्रश्न-nbfc का फ़ुल फ़ॉर्म क्या हैं?

उत्तर-NBFC Full form is Non-Banking Finance Company(नॉन बैंकिंग फाइनेंस कंपनी)

 

प्रश्न- एनबीएफसी किस एक्ट के तहत पंजीकृत हैं?

उत्तर-एक गैरबैंकिंग वित्तीय कंपनी (NBFC) कंपनी अधिनियम 1956 के तहत पंजीकृत है।

 

ये भी पढ़े-

5/5 - (1 vote)
Share
Spread the love

Leave a Comment